दिल्ली जल रही थी तो कहाँ थे गृहमंत्री व सीएम सोनिया गांधी ने उठाए सवाल, भाजपा नेता ने दिया करारा जवाव

Must read



कांग्रेस कार्यसमिति के बाद केंद्र व दिल्ली सरकार पर साधा निशाना

नई दिल्ली : कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने आरोप लगाया, 72 घंटों की हिंसा के बाद भी केंद्र और दिल्ली सरकार ने कार्यवाई नहीं की, जिसके चलते 24 लोग मारे गए। इस दौरान गृहमंत्री और दिल्ली के सीएम कहाँ थे और क्या कर रहे थे? उन्होंने कहा, दिल्ली चुनाव के बाद ख़ुफ़िया एजेंसियों ने जो जानकारी दी उन पर क्या कार्यवाई हुई।

रविवार रात से कितनी पुलिस दंगों वाले इलाके में तैनात थी जब पता था कि दंगे और फ़ैल रहे हैं। जब हालत बेकाबू और पुलिस नियंत्रण से बाहर हो गए तो केंद्रीय अर्धसैनिक बल क्यों नहीं बुलाया गया। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, कांग्रेस कार्यसमिति उन सभी परिवारों के साथ गहरी संवेदना व्यक्त करती है, जिन्होंने हिंसा में अपने सदस्यों को खोया है। बैठक में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा, एके एंटनी, केसी वेणुगोपाल व अन्य शीर्ष नेता शामिल हुए।

अटल को याद किया

सोनिया ने कहा, जब कभी कश्मीर या देश में कोई संकट आता तो वाजपेयी सभी पार्टियों को बुलाकर बात करते थे, लेकिन 2014 से मोदी सरकार आने के बाद कोई बैठक नहीं बुलाई।

चुप्पी शर्मनाक

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने जो कहा वह शर्मनाक है, लेकिन सरकार का कोई कार्यवाई न करना ज्यादा शर्मनाक है। -प्रियंका गाँधी वाड्रा, कांग्रेस महासचिव

गुजरात दंगे याद आये

दिल्ली की हिंसा ने साल 2002 के गुजरात दंगों की याद ताजा कर दी है। हालात सामान्य बनाने का एकमात्र तरीका सेना बुलाना है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह हालात से निपटने में सक्षम साबित नहीं हुए। -सीताराम येचुरी, माकपा महासचिव

हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस अध्यक्ष : भाजपा

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी पर पलटवार करते हुए भाजपा ने उन पर दिल्ली हिंसा का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया। भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, अब हिंसा ख़त्म हो रही है। सच्चाई सामने लाने के लिए जाँच शुरू हो गई है। ऐसे में सभी दलों की प्राथमिकता शांति बहाली होनी चाहियें।

गृहमंत्री से इस्तीफे की मांग करना हास्यास्पद है। पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और एनएसए अजित डोभाल स्थिति पर करीबी से नजर रख रहे हैं। जावड़ेकर ने कहा, कांग्रेस अध्यक्ष का बयान दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। जाँच में पता चल जायेगा की दो महीने से आग लगाई और कौन कौन लोगों को भड़का रहे थे। शाह ने मंगवार को सभी दलों की बैठक ली, जिसमे आप और कांग्रेस नेता भी थे। कांग्रेस के ऐसे बयानों से पुलिस का मनोबल गिरता है।

लोग पूछेंगे राहुल कहाँ हैं : केंद्रीय मंत्री ने कहा, कांग्रेस की यही राजनीति है, इसलिए जनता ऐसे बयानों पर ध्यान नहीं देती। हम उस स्तर पर जाना नहीं चाहते कि कौन कहाँ है, फिर लोग पूछेंगे कि राहुल बाबा कहाँ हैं? भाजपा नेता ने तंज कसा कि बालाकोट के पराक्रम को एक साल हो गया, कांग्रेस ने तो बालाकोट पर भी सवाल उठाए थे।



Top Trending

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Technology