दिल्ली में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश Delhi Violence News

Must read



दिल्ली में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश

नागरिकता संशोधन कानून सीएए को लेकर उत्तर पूर्वी दिल्ली के कुछ इलाकों में मंगलवार को फिर हिंसा भड़क गई, जहाँ उपद्रवियों ने पथराव किया, दुकानों में तोड़फोड़, फायरिंग और आगजनी की। कई इलाकों में हालत बेकाबू हो गए। इसके बाद पुलिस ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में कर्फ्यू लगाकर उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए। हिंसा में अब तक 13 लोगों की मौत हो गई, जबकि 186 घायल हैं।

गृह मंत्रालय ने कानून व्यवस्था का जिम्मा सीआरएफ के डीजी ट्रेनिंग एसएन श्रीवास्तव को सौप दिया है। उन्हें दिल्ली में विशेष पुलिस आयुक्त (कानून-व्यवस्था) बनाया गया है। वहीं, गाजियाबाद से लगी सिमा सील कर दी गई है।

  • 13 की मौत, 186 घायल
  • 56 पुलिसकर्मी भी जख्मी
  • 100 दुकानों में लूटपाट, आगजनी
  • 1000 राउंड से ज्यादा फायरिंग की उपद्रवियों ने

सबसे ज्यादा हिंसा मौजपुर और कर्दमपुरी में हुई। यहाँ सीएए के विरोधी और समर्थक खुलेआम फायरिंग करते रहे। पुलिस के मुताबिक, दोनों और से एक हजार से ज्यादा राउंड गोलियां चली। पुलिस ने उन्हें खदेड़ने के लिए लगातार आंसू गैस के गोले दागे। उपद्रवियों ने उत्तर पूर्वी जिले में 100 से अधिक दुकानों में लूटपाट और आगजनी की। यही हाल करावल नगर मैन रोड, मौजपुर, नूरे इलाही में भी रहा। देर शाम, चाँदबाग़ और भजनपुरा में कई दुकानों में आग लगा दी। दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा, घायलों में दो आईपीएस समेत 56 पुलिसकर्मी भी हैं। पुलिस ने अब तक 11 एफआईआर दर्ज की हैं।

अर्द्धसैनिक बलों की 35 कंपनियां तैनात, एक महीने तक धारा-144

नई दिल्ली : हिंसा के बाद उत्तर पूर्वी अर्द्धसैनिक बलों की अतिरिक्त 35 कंपनियां तैनात की गई हैं। यहाँ एक महीने के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस के साथ स्पेशल सेल, क्रीम ब्रांच व आर्थिक अपराध शाखा के अधिकारी भी हालातों पर करीब से नजर रख रहे हैं।

सीबीएसई ने ताली परीक्षाएं

सीबीएसई ने बुधवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली के 86 परीक्षा केंद्रों पर 10वी और 12वी की परीक्षाएं ताल दी हैं। सभी सरकारी व निजी स्कूल भी बंद रहेंगे।

गृहमंत्री ने की बैठक, तैनात होगी सशस्त्र बटालियन

गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को बैठक बुलाई। इसमें हिंसाग्रस्त इलाकों में पुलिस की सशस्त्र बटालियन को तैनात करने का फैसला किया गया। पुलिस और विधायकों के बीच समन्वय बढ़ाने का फैसला भी हुआ। बैठक में शीर्ष अधिकारीयों समेत सीएम अरविन्द केजरीवाल, एलजी अनिल बैजल, पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक मौजूद थे।

सुप्रीम कोर्ट, हाईकोर्ट में आज सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट हिंसा पर एफआईआर दर्ज करने को लेकर पूर्व सीईसी वजाहत हबीबुल्ला व अन्य के आवेदन पर बुधवार को सुनवाई करेगा। इसके अलावा दिल्ली हाईकोर्ट में इस मामले में सुनवाई होगी।



Top Trending

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Technology