शिलाजीत क्या है? शिलाजीत के फायदे और नुकसान SHILAJIT KE FAYDE OR NUKSHAN

Must read



हेल्थ अवयेरनेस के इस युग में लोग अपने आप को स्वस्थ रखने के लिए काफी सारी गतिविधियां – जैसे के जिम (GYM) ध्यान, और योग करते है। इसके साथ साथ बहुत से लोग काफी सारे सप्लीमेंट्स जैसे की बी-कॉम्प्लेक्स, विटामिन-C मल्टीविटामिन, कैल्शियम, प्रोटीन, ओमेगा 3, का भी सेवन करते है। यही नहीं, कुछ लोग वजन घटाने के लिए ग्रीन टी जैसी चीजों का सहारा लेते हैं।

क्या है शिलाजीत

क्या आपने कभी सोचा है, क्या हो अगर स्वास्थ्य से सबंधी सभी समस्याओ का निदान बस दिन में एक चमच चीज़ से हो जाये? आपको ये मुश्किल लग रहा होगा। लेकिन शिलाजीत वो कुदरती उपहार है जिसका उपयोग प्राचीन काल से अलग अलग बीमारिओयो का निवारण करने में किया जाता है। इसके अलावा इसका इस्तेमाल शारीरिक और मानसिक मज़बूती के लिए किया जाता है। लेकिन आज शिलाजीत का नाम सुनते है तो हमारे दिमाग में ताकत बढ़ाने या फिर पुरुषो की कमज़ोरी दूर करने वाली दवाई का ख्याल आता है, लेकिन ऐसा सोच के हम इसकी चमत्कारी शक्तियों को ठीक से न जानने की गलती कर रहे है।


आप ये जान कर हैरान रह जायेंगे शिलाजीत में इतनी ताकत है के ये शरीर बढ़ाने से ले कर शरीर घटने तक और तो और शरीर के अंदरूनी अंगो की मज़बूती के लिए उपयोग किया जाता है। इसका सेवन करते ही आप अपने शरीर में अनोखी ताकत का अनुभव देख सकते है।

  • इसमें लगभग 85 तरह के अलग अलग भरपूर नुट्रिएंट पाए जाते है, इसी के कारन बाजार में उपलभ्ध सभी स्वास्थ्य सप्लीमेंट्स को शिलाजीत से बदला जा सकता है। इसका इस्तेमाल बच्चो से लेकर बूढ़े सभी कर सकते है।
  • इसमें लगभग 85 तरह के अलग अलग भरपूर नुट्रिएंट पाए जाते हैए इसी के कारन बाजार में उपलभ्ध सभी स्वास्थ्य सप्लीमेंट्स को शिलाजीत से बदला जा सकता है। इसका इस्तेमाल बच्चो से लेकर बूढ़े सभी कर सकते है।

अब आप सोच रहे होंगे इसमें ऐसा क्या है की ये इतना असरकारक है? इसमें फुलविक एसिड (Fulvic Acid) की मात्रा सबसे ज़्यादा होती है, इसी के कारन ये अच्छे खासे हेल्थ सप्लीमेंट्स को टक्कर देने की क्षमता रखता है। शिलाजीत इतना जल्दी परिणाम देता है की कुछ ही दिनों के सेवन के बाद हम इसका असर हमारे बाल, त्वचा, शरीर की ताकत और पाचन में देख पाते है। यह पढाई या काम में मन न लगने जैसे मानसिक तनाव को भी दूर करने में मदद करता है।

आईये तो हम जानते है शिलाजीत आखिर बनता कैसे है?

जिस तरह पेड़ में गोंद पाया जाता है उसी प्रकार शिलाजीत भी पहाड़ो मे से निकलने वाला एक तरह का गोंद है। इसे पहाड़ो का पसीना भी कहा जाता है। पहाड़ो की चट्टान मे से इसको निकालने के बाद इसकी सारी गंदगियों को फ़िल्टर किया जाता है। फ़िल्टर करने के बाद, इसे या तो किसी जड़ी बूटियों के साथ मिलाकर या फिर कच्चा बाज़ार में बेचा जाता है।

आखिर कैसे शिलाजीत सभी शारीरिक और मानसिक समस्याओ का निवारण करने में सफल रहता है? आयुर्वेद के हिसाब से इंसान के शरीर में 7 प्रकार के अलग अलग धातु होते है। रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा, और शुक्र। और आप ये बात जानके हैरान रह जायेंगे के शिलाजीत एक मात्र ऐसी वस्तू है, जो इन सातो धातुओं पर तेज़ी से असर करती है।

आइये अब जानते है इसके इस्तेमाल करने का सही तरीका

ये जानना बेहद ज़रूरी है क्युकी किसी भी चीज़ का गलत उपयोग करने से हमे नुकशान भुगतने पड सकते है। बाजार में शिलाजीत तीन रूप में मिलता है, सॉलिड, लिक्विड और कैप्सूल। इनमे से कैप्सूल का इस्तेमाल न करना बेहतर होता है, क्युकी कैप्सूल में पाउडर होता है और इसमें मिलावटी शिलाजीत की आशंका रह जाती है।

  • अगर हम लिक्विड शिलाजीत की बात करे तो, एक युवा व्यक्ति एक बार में 150 – 250 MG शिलाजीत का सेवन कर सकता है। लिक्विड शिलाजीत के सेवन के लिए एक चमच के उलटे हिस्से को आधा इंच तक लिक्विड डाले और जो लिक्विड चमच में चिपक जाए, उसे दूध में डालकर उसका सेवन क्र सकते है।
  • सॉलिड शिलाजीत की बात करे तो सबसे पहले हमे इसे चावल से थोड़े बड़े आकर की गोटी बनानी होती है। और उसका पानी या दूध के साथ सेवन कर सकते है। अगर आप इसका सेवन करना चाहते है तो इसका सेवन सुबह के नाश्ते से आधे घंटे पहले करे क्युकी खाना खाने के बाद ये असरकारक नहीं होता।


जैसा की हमने देखा शीलाजीत सभी के लिए असरकारक होता है, लेकिन इसका सेवन करना सभी लोगो के लिए ठीक नहीं होता, तो आईये जानते हैं इसका इस्तेमाल किन लोगो को नहीं करना चाहिए।

  • गर्भवती महिलाओ को इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए और 12 साल से कम उम्र के बच्चो को भी शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए। जिन लोगो के शरीर में आयरन की मात्रा अधिक है, जो लोग गंभीर दिल के मरीज़ है, और जो लोग बुखार या इन्फेक्शन से गुज़र रहे है उन्हें भी शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • शिलाजीत का उपयोग गर्मियों में कम करना चाहिए, हफ्ते में सिर्फ तीन बार क्यूंकि इसकी तासीर गरम होती है। शिलाजीत का इस्तेमाल लगातार सालो तक नहीं करना चाहिए, इसका इस्तेमाल तीन महीनो तक करे और फिर एक महीना ब्रेक ले।
  • शिलाजीत स्टैमिना बढ़ाने में काफी मददकारक साबित हुआ है, और आप ये बात शायद नहीं जानते होंगे की अपना स्टैमिना बढ़ाने के लिए ओलंपिक्स, मिलिट्री और स्पोर्ट्स से जुड़े हुए लोग भी इसका इस्तेमाल करते है।
  • इसका असर एस्ट्रोजन, टेस्टोस्टेरोन, और एण्ड्रोजन जैसे सभी सेक्सुअल होर्मोनेस पर होता है, इसकी के कारन ये पुरुषो और महिलाओ से जुडी सभी सेक्सुअल कमज़ोरिओ का निदान करने में मदद करता है।
  • यह मानसिक स्तर पर भी काफी असरकारक है। आज कल की समस्याए जैसे की फ़िज़ूल के ख्याल चलना, काम में मन न लगना, एंग्जायटी, मानसिक तनाव वगेरा जैसी परिस्थिओं में ये काफी काम आता है।

तो दोस्तों, ये थे शिलाजीत के अनोखे फायदे, क्या आप शिलाजीत के इन सभी फायदों के बारे में जानते थे हमे कमेंट बॉक्स में बताये।

धन्यबाद।।।

 



Top Trending

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Technology