10 देश जो भारत के लिए अपनी जान दे सकते हैं

Must read



10 देश जो भारत के लिए अपनी जान दे सकते हैं

आज हम आपको उन देशों के बारे में बताने जा रहे हैं जो भारत के लिए हर युद्ध में उसका साथ देंगे। ये बात तो आप सभी जानते ही हैं कि भारत एक शानदार देश है। इसकी छवि और देशों से कहीं अलग मानी जाती है। भारत के इन 50 सालों में 4 ही युद्ध हुए हैं। क्या आप जानते हैं कि अगर भविष्य में भारत का किसी देश के साथ युद्ध हो जाए तो कौन से देश इंडिया की मदद करेंगे। अगर नहीं तो चलिए आपको बताते हैं वो दस देश जो भारत का युद्ध में साथ देंगे।

10-desh-jo-bharat-ke-liye-apni-jan-de-sakte-hain

10 देश जो भारत का युद्ध में साथ देंगे

• IRAN

इंडिया और ईरान की दोस्ती तो किसी से भी छिपी नहीं है। 1885 में उत्तरी वर्मा को ब्रिटिश शासकों ने अपने राज्य में शामिल कर लिया था। जिसके कारण ईरान और इंडिया के रिश्ते मजबूत हो गए। ये दोनों देश व्यवसायिक रूप से भी एक दूसरे का साथ देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। एक बात और आपको बता दें अमेरिका ने इंडिया से ईरान के साथ तेल के कारोबार को करने के लिए मना किया था, पर भारत ने अमेरिका की एक ना सुनी और ईरान के साथ अपने तेल के कारोबार को जारी रखा। और कई महंगी बिज़नेस डील भी साइन की। इन सब बातो से काफी फर्क पड़ा और यही कारण है जो आज ईरान और इंडिया की दोस्ती और भी ज्यादा गहरी हो गई।

• PHILIPPINES

इंडिया और फिलीपींस काफी टाइम से एक दूसरे के साथ बिजनेस करते आ रहे हैं। इन दोनों देशों के रिश्तों में पहले से काफी हद तक सुधार देखा गया है। फिलीपींस और चाइना की दुश्मनी तो आप सभी जानते ही हैं। फिलीपींस ने हमेशा से ही चाइना का विरोध किया। यही वजह है अगर भारत का चाइना या फिर पाकिस्तान के साथ युद्ध होता है तो फिलिपिंस भारत का ही साथ देगा। क्योंकि भारत फिलीपींस दोनों देशों में अब गहरी मित्रता हो गई है। यहां तक कि  किसी और देश के साथ भी भारत का युद्ध होता है तो फिलिपिंस भारत को ही चुनेगा और उसी का साथ देगा।

BRITAIN

ब्रिटेन और भारत के रिश्ते शुरू से ही अच्छे नहीं माने जाते है। इसका कारण भारत की आजादी को माना जाता है ।क्योंकि ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत का आजाद का होना पसंद नहीं था। और वे नहीं चाहती थी कि भारत कभी स्वतंत्र हो और अपने देश का नाम रोशन कर सके। पर ब्रिटेन के कुछ लोगों के दिलों में आज भी इंडिया के लिए बहुत प्यार देखा गया है। शायद इसी वजह से धीरे धीरे ब्रिटेन के दिल में इंडिया के लिए सद्भावना और सहायता करने की उमंग जाग गई है। और तेजी के साथ ब्रिटेन और भारत के रिश्तो में सुधार हो रहा है। इंडिया की बहुत सारी कोशिशों के बाद जाकर ब्रिटेन, इंडिया के लिए हर युद्ध में इंडिया का साथ देने को तैयार हो गया है।

FRANCE

इंडिया और फ्रांस के बीच एक पैक्ट साइन किया गया था जिसमें लिखा था कि ये दोनों देश एक दूसरे देश के अपराधियों को लौटा देंगे। आपको समझाते है अगर फ्रांस का कोई अपराधी इंडिया में है तो इंडिया की सरकार उसे फ्रांस की सरकार को सौंप देगी। और यदि फ्रांस की सरकार के पास इंडिया का कोई अपराधी है तो वे फ्रांस की सरकार को उस अपराधी को लौटा देगी। इसका कारण इस पेक्ट पर साइन को माना जाता है।

आपको इन दोनों देशों के बीच काफी सुधार देखने को मिल सकता है। यहां तक कि इन दोनों देशों के बीच आए दिन बिजनेस मीटिंग भी होती रहती हैं। इससे आप अंदाजा तो लगा ही सकते हैं कि अगर इंडिया को कभी भविष्य में फ्रांस की सहायता की जरूरत पड़ी तो फ्रांस हर तरीके से इंडिया का साथ देगा, चाहे वह युद्ध का मैदान हो या फिर कारोबार का।

VIETNAM

वियतनाम की आर्मी को बहुत ही शक्तिशाली आर्मी माना जाता है। भारत और वियतनाम की दोस्ती काफी पुरानी है। ये दोनों देश एक दूसरे की युद्ध में सहायता करते हैं। और वियतनाम की आर्मी शक्तिशाली होने के कारण यह हर संभव कोशिश करती है भारत की मदद के लिए। वर्तमान में वियतनाम और भारत के मधुर रिश्तो की चर्चा आपको सुनने या देखने को मिल ही जाएगी।




AMERICA

अमेरिका ने हमेशा से ही अपने फायदे और आतंकवाद से निपटने के लिए कई सारे युद्ध लड़े हैं। अमेरिका अपने आप में एक मात्र ऐसी शक्ति है जो अन्य देशों के मुकाबले बहुत शक्तिशाली है। इस समय अमेरिका के रिश्ते भारत के साथ बहुत अच्छे बने हुए हैं, अमेरिका और भारत के रिश्तो की नजदीकियों के बारे में आप टी .वी. अखबार आदि में देखते ही होंगे। दोनों देशों के राजनायक बहुत अच्छे और शांतिपूर्ण तरीके से अपने राजनीतिक रिश्तो को निभा रहे हैं।

अमेरिका भारत की युद्ध में मदद करेगा या नहीं। ये तो इस बात पर निर्भर करता है, कि भारत का युद्ध किस देश के  साथ हो रहा है। लेकिन जिस तरह से हम भारत और अमेरिका के बीच की नज़दीकियों को देख रहे है। चाहे वे बिज़नेस से जुड़ी हो या फिर राजनीति से, इस बात से साफ जाहिर है कि अमेरिका भारत की मदद जरूर करेगा।

AFGHANISTAN

भारत ने अफगानिस्तान की हर कदम पर मदद की है और इसी तरह अफगानिस्तान ने भी भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हर मुश्किल घड़ी में भारत का साथ दिया है। आपको तालिबान के साथ हुई अफगानिस्तान की लड़ाई के बारे में तो जरूर पता ही होगा। जब अफगानिस्तान की लड़ाई तालिबान के साथ हुई थी। तब भारत ही सबसे पहले आगे आया था अफगानिस्तान की मदद करने के लिए और एक अच्छे मित्र राष्ट्र होने का प्रमाण भी दिया था।

एक सर्वे के मुताबिक अफगानिस्तान के युवा तो भारत के नेतृत्व की मांग कर रहे हैं। भारत और अफगानिस्तान दोनों ही अपने अपने पड़ोसी देशों के आतंकवादियों से लड़ाई लड़ रहे हैं। दोनों देश इन आतंकवादियों से अपने देश की रक्षा करने में लगे हुए हैं, यही कारण है कि अफगानिस्तान ने भारत के साथ मिलकर साथ रहने का फैसला किया है।

JAPAN

भारत और जापान का जो रिश्ता है, वे बहुत ही पुराना माना जाता है। जापान ने भारत की आजादी में भी बढ़-चढ़कर भारत का साथ दिया था और जापान भी यही चाहता था कि भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र बने। आपको याद होगा जब सुभाष चंद्र बोस भारत में आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे, तब जापान ने उनकी आजाद हिंद फौज को पूरा समर्थन दिया। और आज भी जापान भारत का एक सच्चा मित्र बना हुआ है। जापान ने भारत का युद्ध के मैदान के साथ-साथ विकास में  पूरी मदद की है। बुलेट ट्रेन के बारे में तो आप सभी ने सुना ही होगा, अब भारत जापान की मदद से बुलेट ट्रेन चलाने जा रहा है इससे दोस्तों आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जापान कितनी गंभीरता से भारत का साथ दे रहा है।

ISRAEL

भारत का एक मित्र देश इजराइल भी है। भारत के प्रधानमंत्री ने जब इजराइल का दौरा किया था तब वहां की सरकार ने भारत के प्रधानमंत्री का तहे दिल से स्वागत किया था। इसे देखने के बाद हम इस बात का अंदाजा लगा ही सकते हैं कि इजरायल भारत का अच्छा मित्र है और इजराइल के संबंध भारत के साथ कितने अच्छे हैं।

आपको याद ही होगा जब 1971 में भारत का युद्ध हुआ था तब इजराइल ने भारत का साथ दिया था। साथ ही 1999 के युद्ध में अगर इसराइल भारत का साथ युद्ध में नहीं देता तो भारत को हार सामना करना पड़ता। भारत में चीन की घुसपैठ के बाद इजरायल ने खुलकर भारत का साथ देने की बात कही और इसराइल ने साफ कह दिया कि अगर कोई देश भारत से युद्ध लड़ना चाहता है तो वे भारत को अकेला ना समझें, भारत अकेला नहीं है, इजराइल हमेशा उसके साथ खड़ा है।

RUSSIA

रूस ने भारत का हमेशा से ही साथ दिया है और आज भी दे रहा है। रूस ने भारत का साथ हर मुश्किल घड़ी में दिया है, आपको याद होगा 1971 के युद्ध में रूस ने भारत का एक अच्छे और वफादार मित्र की तरह साथ दिया था। रूस ने उस युद्ध के दौरान कह दिया था कि अगर किसी ने भारत पर हमला किया तो यह हमला सीधा रूस पर माना जाएगा। रूस हमेशा से ही ताकतवर रहा है। रूस एक शक्तिशाली देश है पर ये अमेरिका की तरह कभी भी रूस ने दिखावा नहीं किया। इसी दोस्ती की वजह से आज भारत और रूस के रिश्ते बहुत हद तक अच्छी माने जाते हैं।

ये देश युद्ध के साथ-साथ व्यावसाय में भी एक दूसरे का साथ बढ़-चढ़कर देते हैं। इसी वजह से और भी देश जो भारत के खिलाफ साजिशें रचते है, पर वे चुप होकर सिर्फ बैठे रहते हैं, क्योंकि वे जानते हैं कि भारत के साथ रूस जैसा शक्तिशाली देश खड़ा है। इसीलिए उन्हें सोचना पड़ेगा भारत पर हमला करने से पहले।

भारत के लिए उसके मित्र देश हर समय पर भारत के साथ खड़े दिखाई देते हैं। इन देशों के साथ मिलकर भारत और भी शक्तिशाली राष्ट्र बनता जा रहा है। कुछ देश तो भारत के साथ युद्ध करने का ख्वाब देख रहे हैं पर उनके ये ख्वाब, ख्वाब ही रह जाते हैं। इसका कारण भारत का धीरे-धीरे शक्तिशाली राष्ट्र बनाना है।



Top Trending

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Technology